छोरी र दिल बेचया दौसा मैं जरा सी नमकीन के साठ।।