अवध विहारी साँवरिया ले चल अपनी नागरिया सरयू के तीर अयोध्या नगरी सन्त भरें जहाँ गागरिया।।