खुश नसीब हूं मैं शिथिलता ई मखदूम हूं (नजीर एजाज faridi कव्वाल)