भजन सिमरन करने से मन शुद्ध नही होता जितना बाबाजी जी के दर्शन से होता है। gyan sagar.