परमात्मा की भक्ति में पाप कर्म किस किस विधि से कटते हैं - sant rampal ji