न्यू होली वृषभानु दुलारी तेरे तीखे नैन करें घाव हीरा में // पुष्पेंद्र शास्त्री