बेटे धन-दौलत के लोभी बेटी दुःख-सुख की साथी बेटी बचाओ,बेटी पढ़ाओ क्यों नही बात समझ आती। सुनिए बच्ची के मधुर आवाज में।