तिंवरी के गोभक्त द्वारा गाय के पैर में चोट लगने पर तुरंत इलाज करवाया और नागौर गौशाला भेजा