घोड़े पर 14 किलोमीटर दूर पढ़ाने जाता है ये दिव्यांग शिक्षक