है तन पे भस्मी गले में विषधर नमामि शंकर | भजन संकीर्तन | स्वर - श्रीमती पिंकी जादौन, मानसी, नैनसी