दुनिया का बनकर देख लिया,कान्हा का बनकर देख जरा।। devi chitralekha ji ।।