दुपरिया में झगडा ना डारो / बुन्देली लोकगीत / लक्ष्मी त्रिपाठी