Baran - ज्ञान विज्ञान

सांगोद क्षेत्र के किसानों को एक बार फिर बारिश की मार झेलनी पड़ी है। देर रात लगभग 3 बजे से सुबह 6 बजे तक हुई बारिश ने धान की खड़ी फसल को तबाह करके रख दिया है। सोयाबीन व उड़द की फसल तो बारिश के कारण पहले ही नष्ट हो चुकी है। ऐसे में अब किसानों को बची हुई आस धान की फसल पर थी। वो भी आज सुबह हुई बारिश व हवाओं के चलते खेत में लेटी हुई नजर आ रही है। ऐसे में किसानों के माथे पर पुनः चिंता की लकीरो ने जगह बना ली है। किसान जोगेंद्र का कहना है कि 12000 रुपए प्रति बीघा पर मुनाफे में करी थी। सोयाबीन की मेरी फसल पहले ही नष्ट हो चुकी है। बची खुची उम्मीद धान की फसल से थी। वो फसल भी रात को हुई बारिश के कारण अब खेत में ऑडी पड़ गई है। जिससे अब उससे भी अच्छी उपज की उम्मीद बहुत कम बची है । ऐसे में किसान अब सरकार से आग्रह कर रहे है फसली नुकसान का पुनः सर्वे करवाकर किसानों को उचित मुआवजा दिया जाए।

बारां जिला दर्शन

(मत्वपूर्ण प्रशन)👌👍

राजस्थान का बारां जिला के महत्वपूर्ण तथ्य