Jaisalmer - मौज मनोरंजन

सुपरहिट लोकगीत

केसरियो हजारी गुल रो फूल

rajasthani song desi kalakaar talab khan gaon keeta

नखत बान मेहराजोत जैसलमेर

राजस्थानी मारवाङी गीत

!!तुम तो ठहरे परदेशी!! सदीक खांन सोढाकोर!! jaisalamer bast song👌👌👌

आज रे उतरिये में हांजी धुंधळो रे, आज रे उतरिये में हांजी धुंधळो रे। बरसे म्हारे इए जैसाणे रो मे, बरसे म्हारे इए जैसाणे रो मे मे मे मे।। ( मे = बारिश) जब जैसलमेर में बारिश होती है तो खुशी के मौके पर स्थानीय मंगनियार (मेरासी) जाति के लोगों द्वारा यह गीत गाया जाता है। #जय_जैसाण #जैसलमेर #राजस्थान #jaijaisan #jaisalmer #rajasthan #बारिश #लोकगीत

|| यू शाम उतरती है दिल मे ||