Jhalawar - समाचार

जिन्दे को देखे तो सरपट दौड़ जाई ओर मरने के बाद तोक तोक फिरत है मृत मगरमच्छ को देखने के लिए उमड़ा जनसैलाब चित्तौड़गढ़ जिले के राशमी कस्बे के निकट बहती बनास नदी में बख्तावरपुरा एनीकट पर गुरुवार को एक बड़ा मृत मगरमच्छ मिला जिसकी सूचना पर कस्बे के कई ग्रामीण मौके पर देखने के लिए उमड़ पड़े। देखते-देखते लोगों की इतनी भीड़ इकट्ठा हो गई जिसकी सूचना पर राशमी थाना पुलिस भी मौके पर पहुंची। उसके बाद वन विभाग को सूचित किया गया जिस पर वन विभाग के अधिकारी मौके पर पहुंचे।

प्रशासन की उदासीनता के चलते आए दिन लगता है फाटक पर जाम, झालावाड जिले के चौमहला कस्बे में दिल्ली मुंबई मुख्य रेलवे मार्ग पर स्थित फाटक 32 बी पर आए दिनों लंबा जाम लग जाता है। चौमहला कस्बे में जाने की मुख्य सड़क होने के चलते हजारों गाँधीयो का प्रतिदिन इस मार्ग से आवागमन होता है ऐसे में फाटक बंद हो जाना या फाटक देर से खुलने पर जल्दबाजी में गाड़ी वाले इधर उधर से निकालने के चक्कर मे भारी जाम लगा देते हैं लेकिन सब कुछ देखते हुए भी प्रशासनिक अधिकारी अपनी आंख मूंद कर बैठे हैं। ऐसे ही हालात बुधवार को देखने को मिला फाटक के दोनों और वाहनों की लंबी-लंबी लाइनें लग गई और जाम की स्थिति उत्पन्न हो गई जिससे लगभग आधा घंटा तक जाम लगा रहा आवाजाही पूर्ण रूप से बंद हो गई। जिसके कारण क्षेत्रवासियो को काफी कठिनाइयों का सामना करना पड़ा।

भाजपा की राष्ट्रीय उपाध्यक्ष एवं राजस्थान की पूर्व मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे बुधवार को हवाई मार्ग से चौमहला पहुंची जहाँ बाढ़ ग्रस्त गांवों का दौरा कर दर्द का मंजर देखा और पीड़ित परिवारों से मुलाकात की। राजे ने पीड़ितों के लिए स्वयं की ओर से 5 लाख सहित पार्टी कार्यकर्ताओं की ओर से 31 लाख रु की सहायता राशि देने की घोषणा की। वसुंधरा राजे ने सुबह 10:30 बजे चौमहला के कृषि उपज मंडी प्रांगण में हेलिकोप्टर द्वारा लेंड किया फिर कार में सवार होकर बाढ़ ग्रस्त ग्राम पीपाखेड़ी, बोरखेड़ी, आकिया परमार, गंगधार, मल्हारगंज का दौरा कर हालात का जायजा लिया। साथ ही पीड़ित परिवारों से मिलकर उनके हालचाल जाने तथा दुख दर्द में साथ खड़े रहने की बात कही तथा बाढ़ के समय ग्रामीणों की मदद करने वाले धार्मिक सामाजिक व भाजपा कार्यकर्ताओं सहित लोगों को धन्यवाद दिया। इस दौरान पूर्व मुख्यमंत्री ने निजी स्तर पर 5 लाख व भाजपा कार्यकर्ताओं के सहयोग से कुल 31 लाख रुपए के सहयोग की घोषणा की इस दौरान उन्होंने सरकार द्वारा क्षेत्र की बर्बाद हुई। खरीफ की फसलें व गांव में धराशाई हुए मकानों का सर्वे कराकर उचित मुआवजा दिलवाने की बात की, वसुंधरा राजे हेलीपैड से सड़क रास्ते से सबसे पहले पीपाखेड़ी पहुंची जहां पीड़ित परिवारों के महिला पुरुष व बच्चों से मिली तथा उनके बाढ़ से हुए नुकसान की जानकारी ली यहां से मल्हारगंज, बोरखेड़ी आंजना, आक्या परमार ,गंगधार जाकर गांव में जायजा लिया और बाढ़ से क्षतिग्रस्त हुए मकानों व खेतों को भी देखा। ग्राम बोरखेड़ी अंजना में सरपंच प्रतिनिधि लक्ष्मण सिंह झाला ने क्षेत्र के बाढ़ ग्रस्त गांव में हुए नुकसान के बारे में विस्तृत जानकारी दी, तथा किस प्रकार से ग्रामीणों ने आपसी सहयोग से एक दूसरे का बचाव करते हुए कोई जनहानि नहीं होने दी। वही गंगधार सरपंच राजेश नीमा और दिलीप मोरी ने एस सी मोहल्ले में पूरे गंगधार में हुए नुकसान के बारे में जानकारी दी। इस दौरान विधायक कालूराम मेघवाल भाजपा कार्यकर्ता दिनेश करावन, नारायण सिंह ,गोविंद सिंह, राजेंद्र सिंह, मण्डल अध्यक्ष गौतम जैन ,सुल्तान सिंह,उप प्रधान नरेंद्र कोठारी,विमल जैन,अरविंद अग्रवाल,अशोक गायरी, गोपाल शर्मा, लक्ष्मण सिंह झाला ,सरपंच सुरेंद्र सिंह, संतोष सोनी, आदित्य कटारिया, जगदीश भावसार,राजू नीमा,दिलिप मोरी,नरेंद्र सिह, वासुदेव विश्वकर्मा ,राजेश जैन,करणसिंह ,संजय राठौर सहित कई भाजपा कार्यकर्ता तथा ग्रामीण उपस्थित रहे।

झालावाड़: काली पट्टी हाथ मे बांध कर जताया विरोध

भारतीय किसान संघ के नेतृत्व में हुआ धरना प्रदर्शन झालावाड़ जिले के डग कस्बे में भारतीय किसान संघ के नेतृत्व में धरना प्रदर्शन किया गया। जिसमें किसानों ने अतिवृष्टि से हुए नुकसान व बीमा कंपनियों द्वारा अभी तक बीमा राशि नही दिए जाने को लेकर, गायत्री मंदिर परिसर में एकत्रित होकर बैठक की। उसके बाद भारतीय किसान संघ के जिला अध्यक्ष रघुनाथ सिंह के नेतृत्व में कस्बे के प्रमुख मार्गों से होते हुए डग तहसील पहुंचे। जहां राज्य सरकार के खिलाफ जमकर नारेबाजी की। वहीं मुख्यमंत्री व राज्यपाल के नाम डग तहसीलदार अशोक शाह को ज्ञापन सौंपा। जिसमें किसानों की मांगों को लेकर शीघ्र समाधान की मांग की। वहीं 10 दिन की चेतावनी देते हुए यदि दस दिन में मुआवजे की राशि व बीमा कंपनियों की राशि किसानों के खातों में नहीं डलेगी तो किसान उग्र आंदोलन करेंगे। वही डग की सड़कों पर धरना प्रदर्शन कर चक्का जाम भी करेंगे। जिसको लेकर समस्त जिम्मेदारी प्रशासन की होगी। इस दौरान क्षेत्र के कई गांवों के किसान धरना प्रदर्शन में शामिल हुए। तथा शीघ्र अतिशीघ्र सरकार से मुआवजे की मांग की। इस दौरान भारतीय किसान संघ के जिला अध्यक्ष रघुनाथ सिंह, जिला मंत्री राधेश्याम गुर्जर, जिला सह मंत्री शम्भू सिंह जगदीशपुरा वही तहसील अध्यक्ष राधेश्याम विश्वकर्मा हरनावदा सहित क्षेत्र के किसान शामिल रहे।

झालावाड़ जिले के डग क्षेत्र के गांव जामुनिया में लगातार बारिश से पुलिया हुई क्षतिग्रस्त, राहगीरों को हो रही आवागमन में परेशानी

झालावाड जिले केगंगधार तहसील के पाड़लिया, रावनगुराड़ी, कुंडला गांव सहित कई गाँव में ग्रामीणों के रहने के घर एवं मवेशियों के रहने के घर ढह गये। कुछ मकान पूरी तरह से बरबाद हो गये तो कुछ की दीवाले ढह गयी ओर ग्रामीण दूसरे ग्रामीणों के यहां रहने को मजबूर हो गए।साथ ही खाने पीने की सामग्री भी पूरी तरह बर्बाद हो गयी । पटवारी गाँव में सर्वे करने ओर गाँव में फॉर्म भरवाने के बजाय ग्रामीणों को चौमहला अपने घरो पर बने ऑफिस में बुलाकर फॉर्म ओर सर्वे कर रहे। कुछ ग्रामीणों ने कहा की 100 से 200 साल पुराने आबादी क्षेत्र में बने पुराने घरो के पट्टे मांगे जारहे ओर जैयन की रिपोर्ट बनवाने का कहा जा रहा। बार बार चौमहला आने जाने का किराया कहा से लाये, प्रशासन पटवारी को गाँव में ही चौपाल पर बैठकर कार्यवाही को पाबंद करे।

नलों से आ रहा गंदा पानी, कैसे पिए कस्बेवासी झालावाड़। जिले के सरड़ा कस्बे में जलदाय विभाग की बड़ी लापरवाही से कस्बेवासी नलों में आ रहे गंदा पानी पीने को मजबूर है। लालचंद बैरागी मुकेश कारपेंटर ओम प्रकाश टेलर आदि ने बताया कि कस्बे में आए दिन पेयजल आपूर्ति बंद हो जाती है। साथ ही रामलीला मैदान के आसपास के घरों मे नलों से नाली का गंदा पानी आ रहा है। दरअसल रामलीला मैदान की पाइपलाइन फूटने से नालियों का पानी आ रहा हैं। मौजूदा कर्मचारी को इसके बारे में कई बार अवगत करा दिया है। कर्मचारी से पाइपलाइन बदलने को कई बार कह चुके हैं। लेकिन कर्मचारी द्वारा इस ओर कोई ध्यान नहीं दिया जा रहा है।

पीहर जाने के लिए प्रेग्नेंट महिला ने दर्द का बहाना कर लिया रेस्क्यू टीम का सहारा

झालावाड जिले के गंगधार क्षेत्र में 5 दिन पूर्व आई बाढ़ से क्षेत्रवासियों का जनजीवन अस्त व्यस्त हो गया था इस दौरान गंगधार कस्बे में 10 से 15 फीट पानी सड़कों पर भरा गया था वही मौसम के मिजाज ठंडे होने पर कस्बे में सभी जगह कीचड़ व गंदगी हो गई थी जिसको लेकर ग्राम पंचायत गंगधार के सरपंच राजेश नीमा ने सड़को की सफाई करवाई।