Raisen - देश और समाज

सारी उमर गंवाई सोकर, बहुजन अब तो जागो सबेरा हो गया है // रचना भारती जी