Sawai Madhopur - सुविचार और शुभकामनाएं

हिंदी दिवस विशेष विद्यालयों में हिंदी दिवस पर विभिन्न प्रतियोगिताओं का आयोजन हिंदी हमारी राजभाषा है। इसके विकास के लिए देश में बड़े पैमाने पर अभियान चलाए जाते हैं। इसी को लेकर 14 सितंबर को पूरे देश में हिंदी दिवस मनाया जाता है। इतना ही नहीं विश्‍व स्‍तर पर भी इसको दर्जा दिलाए जाने की कवायद जारी है। जहां देश में  हिंदी दिवस  14 सितंबर को मनाया जाता है, वहीं पूरी दुनिया में विश्‍व हिंदी दिवस 10 जनवरी को होता है। इस अवसर पर क्षेत्र के विद्यालयों में निबंध, भाषण तथा चित्रकला प्रतियोगिताओं का आयोजन किया गया। हिंदी दिवस का इतिहास और महत्व भारत कई भाषाओं और संस्‍कृतियों का देश है। इस वजह से हिंदी को एक मुख्य भाषा के रूप में लिया गया है। 1918 में राष्‍ट्रपिता महात्मा गांधी ने भी हिंदी को राष्ट्रभाषा बनाने के लिए घोषणा की थी। फिर भारत आजाद होने के बाद 14 सितंबर 1949 को हिंदी को देश की मातृभाषा घोषित कर दिया गया। उसके बाद यही निर्णय लिया गया कि इस दिन को हिंदी दिवस के रूप में मनाया जाएगा, जिसके तहत हिंदी का प्रचार-प्रसार किया जाएगा। भारतीय संविधान के अध्याय 17 के अनुसार, यह लिखा गया है कि हर राज्य की राज्यभाषा हिंदी होगी और लिपि देवनागरी होगी। देश में पहला आधिकारिक हिन्दी दिवस 14 सितंबर 1953 में मनाया गया था। वहीं, दुनिया में इसे पहचान दिलाने के लिए 10 जनवरी 1975 को नागपुर महाराष्ट्र में विश्व हिंदी दिवस मनाया गया था। इसके बाद से विदेशों में 10 जनवरी को विश्व हिंदी दिवस के रूप में मनाया जाता है।

पागल anaconda train रुक जाता है और भारतीय train सिम्युलेटर में समपार पर निकल जाता है