Sawai Madhopur - रोचक जगह औऱ सफर

राष्ट्रपति अवार्ड विजेता सवाई माधोपुर रेलवे स्टेशन की एक झलक

बेकार हुआ लाखों का बारदाना कर्मचारी अधिकारी कर रहे हैं अनदेखी चौथ का बरवाड़ा सवाई माधोपुर जिले के चौथ का बरवाड़ा कस्बे में स्थित कृषि उपज मंडी में लाखों रुपए का बारदाना क्रय विक्रय सहकारी समिति के अधिकारियों कर्मचारियों की अनदेखी के कारण बेकार हो रहा है गौरतलब है कि राजफेड द्वारा अभी हाल ही में समर्थन मूल्य कांटा चालू कर किसानों की उपज तोड़ी गई थी इसी दौरान राजफेड द्वारा किसानों की उपज रखने के लिए बारदाना की व्यवस्था की गई थी लेकिन समर्थन मूल्य कांटा बंद होने के बाद बचे हुए बारदाने की जिम्मेदारी अधिकारियों कर्मचारियों की रखरखाव की होती है लेकिन अधिकारी कर्मचारी अपनी जिम्मेदारी से मुंह फेरते हुए बारदाने को खुले में रख दिया गया है जिससे बारिश होने के कारण बारदाना बेकार हो चुका है

सवाई माधोपुर उपखंड मुख्यालय के पुलिस थाना परिसर में महज 25 एमएम बारिश ने ही पुलिस थाने को दरिया बना

सवाई माधोपुर की यात्रा

ग्रामीण ने फर्जी टाइगर अटैक बता मुआवजा की मांग की सवाई माधोपुर स्थित रणथंभौर नेशनल पार्क बाघो की अठखेलियॉ को लेकर विश्व स्तर पर अपनी अलग ही पहचान रखता है । रणथंभौर में दिनो दिन बाघो की संख्या में बढोत्तरी होने से वन्य जीव प्रेमियों में खुशी है, तो वही रणथम्भौर में कुछ लोगो द्वारा बाघ को बदनाम कर सरकारी मुआवजा लेने का प्रयास करने का मामला भी विभागीय जांच में समाने आया है। वन विभाग के अधिकारियों का कहना है कि रणथंभोर के जंगल एवं उसके आस पास के इलाको में कई बार बाघ चरवाहों या ग्रामीणो पर हमला कर देता है और साल में ऐसी कई घटनाऐ सामने आयी है । लेकिन जॉच के दौरान कई मामलो में बाघ के द्वारा हमला करना नही पाया गया । ग्रामीण या तो अनजाने में हायना, पैैंथर जैसे वन्यजीवो को बाघ समझ लेते है या फिर हडबडाहट में ही बाघ का हमला बताते है । ऐसा इस लिए भी होता है कि गांव वाले प्रशासन को जल्दी अलर्ट करने के लिए भेडिया, भालू, हायना एवं पैंथर के हमले को बाघ  का हमला बता देते है । रणथंभौर अभ्यारण में टाइगर हमले के झूठे मामले सामने आने का खुलासा हुआ है। जॉच में वन प्रशासन ने पाया कि रणथंभौर टाइगर रिजर्व के आसपास रहने वाले ग्रामीण मुआवजे के लिए फर्जी टाइगर अटैक का दावा कर रहे है।  एक मामले में बताया गया कि एक किसान पर अभयारण्य के देवपुरा चेकपॉइंट के पास टाइगर ने हमला किया। उसने अपने शरीर में मामूली चोटें दिखाईं गई । उसे अस्पताल ले जाया गया जहां प्राथमिक उपचार के बाद घर भेज दिया गया। वन विभाग के अधिकारियों ने बताया कि प्राथमिक जांच में सामने आया है कि इलाके में टाइगर का मूवमेन्ट तो रहता है । लेकिन बाघ के हमला किए जाने का एक भी साक्ष्य सामने नहीं आया है। इलाके में टाइगर देखे गए लेकिन हमले के कोई निशान नहीं मिले।

राजीव गांधी sangralay, सवाई माधोपुर

22,413 मडगांव - एच निजामुद्दीन राजधानी एक्सप्रेस एमपीएस में सवाई माधोपुर को नष्ट!

सवाई माधोपुर में फंसा ट्रैक्टर जंगल

kailashpuri सवाई माधोपुर

पैलेट - रणथंभौर विला रिज़ॉर्ट || रणथमभोर, सवाई माधोपुर, राजस्थान, भारत

मौसम का mahool में सवाई माधोपुर।

रणथम्भोर अभ्यारण